Apna Adda 13: 

Apna Adda 13: मैं हजारों ऑडिशन देकर हीरोइन बन गई, पिता की हां के इंतजार में कई साल बीत गए

Entertainment

Apna Adda 13: फरीदाबाद की रहने वाली कनिका गौतम इस बार अपना अड्डा सीरीज में चर्चा में हैं। कनिका के पिता महेश कुमार शर्मा पिछले साल भारतीय वायुसेना से सेवानिवृत्त हुए हैं, लेकिन आज भी वह अपने पिता से अभिनय करने की अनुमति को याद करके भावुक हो जाती है। कनिका ने फरीदाबाद से जम्मू के उधमपुर में अपनी पढ़ाई पूरी की और फिर सिर्फ इसलिए इंजीनियरिंग में प्रवेश लिया क्योंकि उनके माता-पिता उन्हें इंजीनियर बनाना चाहते थे।

“मुझे नहीं पता कि एक्टर बनने का भूत मुझ पर कब और कैसे सवार हुआ, लेकिन बचपन से ही मुझे शीशे के सामने दूसरी अभिनेत्रियों की नकल उतारना, नाचना-गाना बहुत पसंद था,” कनिका बताती है।

स्कूल के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए भी प्रशंसा मिलती है। और बस एक दिन मैंने सोचा कि मुझे भी हीरोइन बनना चाहिए। मैंने उस दिन से पहले दिन कैमरे का सामना करने तक कई साल बिताए, बहुत सारे विरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन मैंने अपनी लगन कभी नहीं छोड़ी।’

Apna Adda 13: क्या प्रतिरोध मिलता है? “जैसा कि हर छोटे शहर के परिवारों में होता है, किसी बेटी का हीरोइन बनने की बात करना किसी गुनाह से कम नहीं है,” कनिका कहती हैं। मैंने अपनी नानी को पहली बार ये बात बताई जब मैं दसवीं में पढ़ने लगा। मैंने भी उनसे कहा कि किसी को नहीं बताना, लेकिन वे मां को बताया। और माता ने पिता को। पिताजी ने भी पूछा कि थप्पड़ क्यों नहीं मारा?”

Apna Adda 13: कविता गौतम ने 12वीं क्लास पूरी की

Apna Adda 13:  घर पर बहुत हंगामा हुआ और कविता गौतम ने 12वीं क्लास पूरी की। तब तक सभी पुणे आ चुके थे, जहां उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हुए अपने बचपन के सपने को फिर से पूरा किया। “मैंने बचपन से बस अभिनेत्री बनने का ही सोचा था,” कविता कहती है। मैंने सोचा कि अगर मैं मुंबई के इतने करीब आकर भी अपने मन की बात नहीं सुनी तो मैं अपने जीवन भर खुद को कोसती रहूंगी। तो मैंने घर में फिर से बात की। फिर घर में तीन या चार दिन तक महाभारत हुआ। और एक दिन, जब मैं अपने कमरे में रो रही थी, मेरे पिता आए और कहा कि मैं तुम्हें अपने सपने पूरे करने के लिए कहते हैं।”

इंजीनियरिंग करते समय कविता ने पुणे से मुंबई और मुंबई से पुणे का चक्कर लगाया। वह अपनी पहली फिल्म से पहले लगभग एक हजार ऑडिशन दे चुकी थीं। “कैमरे के सामने मेरा पहला ब्रेक एक कमर्शियल विज्ञापन फिल्म थी, जिसमें मैंने करीना कपूर के साथ काम किया,” कविता बताती है।

तब रास्ते खुल गए। TV धारावाहिकों ने भी अच्छा काम किया। लेकिन विजक्राफ्ट का ब्रॉडवे म्यूजिकल “बल्ले बल्ले” मेरी अभिनय यात्रा में एक महत्वपूर्ण मोड़ था। इसमें मेरा लीड रोल देखकर मुझे ऑफर आने लगे।”

हाल ही में कविता गौतम की पहली फिल्म प्यार के दो नाम, जिसमें वह मुख्य हीरोइन है, सिनेमाघरों में रिलीज हुई है। कैसा ये फितूर, उनकी एक और फिल्म, पूरी हो चुकी है। कविता का मानना है कि निरंतर प्रयत्न, धैर्य और आत्मविश्वास से ही सफलता मिल सकती है। वह मानती हैं कि उनका रास्ता अभी लंबा है और मंजिल दूर है, लेकिन वह कहती हैं कि लगातार चलने वाले मुसाफिर को मंजिल मिलती जरूर है।

Apna Adda 13: मैं हजारों ऑडिशन देकर हीरोइन बन गई, पिता की हां के इंतजार में कई साल बीत गए

Gumrah Team के साथ मुलाकात | The Kapil Sharma Show | New Ep