Bareilly Firing:

Bareilly Firing: आरोपी राजीव राणा ने कहा, “हम मौके से न भागते तो मार दिए जाते 4-5 लोग।”

Uttar Pradesh

Bareilly Firing: रविवार को बरेली में पीलीभीत बाईपास पर फायरिंग और तोड़फोड़ के मामले में नामजद प्रॉपर्टी डीलर राजीव राणा ने एक वीडियो पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने खुद को निर्दोष बताया। उसने बरेली एसएसपी को फोन करके खुद को घटना में दोषी नहीं ठहराने की कोशिश की।

भी इज्जतनगर इंस्पेक्टर को निर्दोष घोषित किया। उन्होंने कहा कि उन्होंने कोर्ट से हमारे पक्ष के कागजात देखने के लिए कहा था और मौके पर जाकर कब्जा करने के लिए कहा था। Rajiv Rana ने एक मंत्री के पति पर कड़े आरोप लगाए। उसने कहा कि अगर हम नहीं भागते तो चार-पांच लोग मारे जाते।

शनिवार को इज्जतनगर थाना क्षेत्र में पीलीभीत बाईपास रोड पर बजरंग ढाबा के पास प्लॉट पर प्रॉपर्टी डीलर राजीव राणा और मार्बल की दुकान के मालिक आदित्य उपाध्याय के गुटों में जमकर संघर्ष हुआ।

Bareilly Firing: 1975 में वह संपत्ति बेची गई थी।

Bareilly Firing: घटना में दोनों पक्षों से अंधाधुंध गोली मार दी गई। राजीव राणा गुट पर एक दुकान में बुलडोजर से तोड़फोड़ करने का आरोप लगाया गया है। राजीव गुट की ओर से भेजी गईं दो जेसीबी को आदित्य पक्ष ने जलाया। फायरिंग, तोड़फोड़ और आगजनी से लोग घबरा गए।

Bareilly Firing: घटना के बाद आदित्य उपाध्याय और उसके पुत्र अविरल उपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया गया था। राजीव गुट के भी कई लोग गिरफ्तार हुए हैं। शनिवार शाम को आदित्य उपाध्याय के चौकीदार ने रिपोर्ट दी। इसमें भाजपा के पूर्व विधायक पप्पू भरतौल और राजीव राणा सहित 12 नामजद और 150 अज्ञात शामिल हैं। प्रॉपर्टी डीलर ने रविवार सुबह एक वीडियो जारी करके खुद को निर्दोष घोषित किया। दूसरी ओर से गंभीर आरोप लगाए गए।

राजीव राणा ने वीडियो में कहा कि मैं एसएसपी बरेली के सामने अपना पक्ष रखना चाहता हूँ। मुझे आरोपी बनाया जा रहा है, कहा। हमने कोई बुरी बात नहीं की है। हम जमीन पर अधिकार करने नहीं गए थे। विकास प्राधिकरण ने हमारा प्लॉट मान्यता दी है। हमने इसे खरीदा था। Rajiv ने कहा कि मंत्री के पति इस प्लॉट पर कब्जा करना चाहते हैं। मैं इस प्लॉट को छोड़ने के एवज में रंगदारी करने की भी मांग की गई है। उस समय हमने स्पष्ट रूप से मना कर दिया था। घटना का बड़ा षडयंत्र था। मंत्री के पति इस प्लॉट को छीनने के लिए मुझे आरोपी बनाना चाहते हैं।

राजीव ने कहा कि आदित्य उपाध्याय इस प्लॉट को छीनना चाहता है जिस कागज को दिखाता है। 1975 में वह संपत्ति बेची गई थी। उसका कोई हिस्सा नहीं है। हम न्यायालय में गए। कोर्ट का निर्णय हमारे पक्ष में आया। इसके लिए भी आईजी से मिले। उन्हें थाना इज्जतनगर पुलिस को बताया गया था। जब हम इज्जतनगर गए, इंस्पेक्टर ने कहा कि आपको कोर्ट के आदेश के अनुसार काम करना होगा। यदि कोई समस्या आती है, तो थाने जाओ। दूसरे पक्ष को भी थाने में लाओ।

प्रॉपर्टी डीलर ने कहा कि हम शांतिपूर्वक प्लॉट पर काम कर रहे थे। आदित्य उपाध्याय और अभिराज उपाध्याय सहित दूसरे पक्ष के कई लोगों ने अचानक से अंधाधुंध हमला करना शुरू कर दिया। यदि हमारा कर्मचारी मौके से नहीं भागता, तो वे चार-पांच लोगों को मार डालते। हमारे लोग कार में चढ़ गए। दूसरे पक्ष ने पुलिस के सामने गोलियां चलाईं। राणा ने स्वतंत्र जांच की मांग की। योगीराज ने कहा कि मुझे न्याय मिलेगा। घटना में जो भी दोषी हैं, वे सजा पाएंगे। अगर मेरी बात नहीं सुनी जाती तो मैं सीएम योगी से मिलूँगा।

Bareilly Firing: आरोपी राजीव राणा ने कहा, “हम मौके से न भागते तो मार दिए जाते 4-5 लोग।”

Bareilly News: बरेली फायरिंग मामले में ताबड़तोड़ एक्शन, 6 पुलिसवाले हुए सस्पेंड | Crime | Police