Haryana:

Haryana: मुख्यमंत्री नायब सैनी, धन्यवाद कार्यक्रमों में भाग लेने वाली पत्नी, करनाल से ही ताल ठोकेंगे।

Haryana

Haryana: नायब सिंह सैनी ने मनोहर लाल की करनाल सीट खाली करने के बाद हुए उपचुनाव में जीत हासिल की है, जिससे वे विधायक बन गए हैं। आम चुनाव में कुछ ही महीने बचे हैं। इसलिए भाजपा सरकार और संगठन पूरी तरह से चुनावी मोड में हैं। हाईकमान से संकेत मिलने के बाद, नायब सैनी ने राज्य और करनाल पर ध्यान केंद्रित किया है।

मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी अक्तूबर में होने वाले हरियाणा विधानसभा चुनाव में करनाल विधानसभा सीट से ही चुनाव लड़ेंगे। भारतीय जनता पार्टी ने अभी तक इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं की है, लेकिन सैनी और उनकी टीम ने इस सीट से चुनावी तैयारी शुरू कर दी है।

मुख्यमंत्री सैनी ने खुद करनाल में अपनी भूमिका बढ़ाई है। इसके अलावा, सीएम ने कैलाश सैनी को अपने ओएसडी संजय बठला के अलावा करनाल में प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त करना शुरू कर दिया है। CM की पत्नी सुमन सैनी धन्यवादी दौरे के माध्यम से फिर से लोगों के बीच में आ गई हैं।

सूत्रों का दावा है कि सरकार और संगठन ने इससे पहले सर्वे कराया था। इसमें नायब सिंह सैनी को करनाल सुरक्षित स्थान बताया गया है। यही कारण है कि सैनी और उनकी टीम ने करनाल में अपने दौरे को बढ़ा दिया है। इससे पहले, मनोहर लाल 2014 में करनाल पहुंचे और दो बार यहां से विधायक बने। ठीक इसी तरह, नायब सैनी अब करनाल में अपनी कर्मभूमि बनाने की तैयारी में हैं। भाजपा का यह निर्णय, हालांकि, कई स्थानीय भाजपा नेताओं को बेचैन कर सकता है क्योंकि वे पिछले दस साल से विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन हर बार चूक जाते हैं।

Haryana: इसलिए करनाल सुरक्षित सीट है

नायब सैनी को करनाल सीट सुरक्षित माना जाता है क्योंकि सैनी भाजपा के सीएम फेस हैं और दूसरा करनाल लोकसभा से सांसद मनोहर लाल केंद्र में कैबिनेट मंत्री हैं। भाजपा को लगता है कि मनोहर लाल के नाम पर सैनी आसानी से पंजाबी समाज का वोट बैंक हासिल कर सकता है क्योंकि शहर में पंजाबी समाज का वोट बैंक अधिक है। साथ ही सैनी और उनका परिवार करनाल विधानसभा में उपचुनाव में पसीना बहा चुके हैं और अपनी टीम भी बना चुके हैं।

Haryana: नारायणगढ़ इसलिए सुरक्षित नहीं है

2014 में नायब सिंह सैनी ने नारायणगढ़ सीट से चुनाव जीता और सरकार में खनन मंत्री बने। 2019 में वे कुरुक्षेत्र से सांसद चुने गए थे। नारायणगढ़ विधानसभा सीट अंबाला लोकसभा क्षेत्र में आती है, जिसमें पिछले कुछ समय से सैनिकों की कम उपस्थिति रही है। नारायणगढ़ विधानसभा से भाजपा के बंतो कटारिया की बजाय कांग्रेस के वरुण चौधरी ने लोकसभा चुनाव जीता। यही नहीं, सीएम सैनी के पैतृक गांव मिर्जापुर माजरा के बूथ 122 पर कांग्रेस को 450 वोट मिले हैं, जबकि भाजपा को 364 वोट मिले हैं। अब सैनी नारायणगढ़ की जगह करनाल से चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

Haryana: मुख्यमंत्री नायब सैनी, धन्यवाद कार्यक्रमों में भाग लेने वाली पत्नी, करनाल से ही ताल ठोकेंगे।

करनाल: CM Nayab Saini की धर्मपत्नी ने किया धन्यवाद दौरा, जनता और कार्यकर्ता का जताया आभार