IND vs SA test metch

IND vs SA: क्या टीम इंडिया खत्म कर पाएगी टेस्ट सिरज का सूखा?

Sports

IND vs SA: भारत ने अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज जीत ली है, अब टेस्ट सीरीज की बारी है, हर भारतीय का सपना है कि भारत अफ्रीका में टेस्ट सीरीज जीते,   यह सीरीज भारत के लिए बेहद अहम है, क्योंकि टीम इंडिया ने अब तक दक्षिण अफ्रीका में कोई टेस्ट सीरीज नहीं जीती है. भारत ने यहां 8 सीरीज खेलीं, जिनमें से एक ड्रॉ रही, जबकि 7 में हार मिली।

IND vs SA: 1932 में जब भारत ने क्रिकेट खेलना शुरू किया तो टीम बेहद कमजोर थी. टीम हर देश में हार रही थी लेकिन 1983 विश्व कप जीतने के बाद दुनिया ने भारत को पहचाना। इस साल के अंत में भारत ने विदेश में भी टेस्ट सीरीज जीतने का सिलसिला शुरू किया. टीम ने इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, वेस्टइंडीज और सभी एशियाई देशों में टेस्ट सीरीज जीतीं. भारत ने ऑस्ट्रेलिया में दो बार जीत हासिल की है लेकिन दक्षिण अफ्रीका में टीम आज तक सीरीज नहीं जीत पाई है.

IND vs SA: पिछली बार 2021 में भारतीय टीम 1-0 की बढ़त लेने के बाद भी 3 टेस्ट मैचों की सीरीज हार गई थी, लेकिन इस बार विराट कोहली, केएल राहुल, रवींद्र जड़ेजा जैसे अनुभवी खिलाड़ियों के दम पर टीम इंडिया के पास सीरीज जीतने का मौका है. और जस्प्रीत. के साथ-साथ मोहम्मद सिराज और शुबमन गिल जैसे युवा खिलाड़ी भी टीम को दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज में जीत दिलाने में सक्षम हैं।

IND vs SA: 1992 के बाद से भारत ने अफ्रीका में एक भी टेस्ट नहीं जीता है

IND vs SA: 13 नवंबर 1992 को भारत ने दक्षिण अफ्रीका में अपना पहला टेस्ट खेला था. मोहम्मद अज़हरुद्दीन की कप्तानी में भारत 4 टेस्ट मैचों की सीरीज़ 1-0 से हार गया। 3 मैच ड्रा रहे. 1996 में सचिन तेंदुलकर की कप्तानी में भारत 3 टेस्ट मैचों की सीरीज 2-1 से हार गया था. 2001 में भारत सौरव गांगुली की कप्तानी में मैदान में उतरा, लेकिन नतीजा वही रहा और टीम 2 टेस्ट मैचों की सीरीज 1-0 से हार गई।

IND vs SA: भारत ने 9 साल में 9 टेस्ट खेले और एक भी नहीं जीता. टीम को 4 टेस्ट में हार मिली, जबकि 5 मैच ड्रॉ रहे। फिर राहुल द्रविड़ की कप्तानी में भारत ने 2006 में 3 टेस्ट मैचों की सीरीज खेली. एस श्रीसंत की शानदार गेंदबाजी के दम पर भारत ने पहला टेस्ट 8 विकेट से जीता, लेकिन टीम बाकी 2 टेस्ट हार गई और सीरीज हार गई। यानी 1992 के बाद से 17 सालों में भारत ने 12 टेस्ट खेले हैं, टीम को सिर्फ एक मैच में जीत मिली है और चारों सीरीज टीम हार गई है.

तो अब टीम रोहित के लिए इतने सालों का सूखा खत्म करने का समय आ गया है, इस बार टीम पूरी तरह से फिट है और अनुभवी और युवाओं का मिश्रण है। वनडे सीरीज जीतने के बाद भारतीय टीम जोश और आत्मविश्वास से भरी हुई है. जिससे भारतीय टीम को भी काफी फायदा होगा.

आप यह भी पढ़ सकते हें

WFI: आखिरकार सरकार झुकी,  संजयसिंह समेत पूरी WFI की मान्यता रद्द