Indore: 

Indore: सैकड़ों परिवार, गरीबों के घरों को तोड़कर अमीरों को फायदा पहुंचाया, बारिश में सड़कों पर सो रहे है 

Madhya Pradesh

Indore: आरई-2 रोड बनाने के लिए इंदौर नगर निगम ने बिचौली कांकड़ बस्ती में सैकड़ों घरों को गिरा दिया है। यहां रहने वाले गरीब परिवार गंदगी के बीच खाना बनाने और खाने के लिए मजबूर हैं, बारिश और आंधी के बीच भी सड़कों पर सो रहे हैं। निगम की इस कार्रवाई में लगभग 5,000 लोग सड़क पर उतरे हैं। दूसरी ओर, निगम ने अमीरों को लाभ पहुंचाने के लिए सिर्फ इस मार्ग का डिजाइन बदल दिया है। यदि यह सड़क नक्शे के अनुसार बनती तो इसमें बहुत से करोड़पति लोगों की जमीन आती।

Indore: कैसे अमीरों को लाभ दिया गया

1991 और 2008 के मास्टर प्लान में, कनाड़िया के भूरी टेकरी से नायता मुंडला के बीच 4.5 किमी. चौड़ी और नक्शे में सीधी आरई-2 का प्रस्ताव था। यद्यपि सड़क टीएंडसीपी नक्शे से मेल खाना चाहिए था, निगम अधिकारियों ने सड़क का अपना अलाइनमेंट बनाया। इंदौर विकास प्राधिकरण पहले सड़क बना रहा था, लेकिन योजना खत्म होने पर निगम ने इसे बनाने की अनुमति दी। उसके हिसाब से काम भी शुरू हुआ।

पुरानी सीधी सड़क अब नागिन की तरह दिखती है। आईडीए के आनंदवन प्रोजेक्ट के ठीक सीधी रेखा में आते हैं, जहां सैकड़ों लोगों के घर तोड़े गए हैं। शहर के प्रमुख अधिकारी और बिजनेसमैन आनंदवन में रहते हैं। सड़क को आनंदवन से हटाकर बस्ती को बाहर निकाला गया है। रोड जहां से निकलना था, पुलिस लाइन के परेड ग्राउंड में है. लेकिन पुलिस लाइन ने रोड को लेफ्ट तरफ मोड़ दिया, जो सीधी जानी थी। आनंद वन टू की सड़क भी है। अग्रवाल पब्लिक स्कूल तक सीधा रास्ता है, लेकिन रास्ता पूरी तरह से बदल गया है।

Indore: मुख्यमंत्री ने पट्टे दिए

बिचौली कांकड़ में जिन लोगों के घरों को तोड़ा गया है, उनमें से कई लोगों को मुख्यमंत्री ने पट्टे बी दिए हैं। इन्हें भी हटा दिया गया है। 2013 में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ये पट्टे सरकार को दिए थे। पट्टाधारियों के वकील अभिनव धनोतकर ने कोर्ट में सवाल उठाया कि अगर मास्टर प्लान में बदलाव होता तो सरकार गरीबों को आवास के पट्टे क्यों देती?

Indore: महापौर: हमने रोड अलायमेंट नहीं किया

महापौर पुष्यमित्र भार्गव ने कहा कि आरई-2 टीएंडसीपी लेआउट के अनुसार बनाया जा रहा है। सिर्फ निगम ने अतिक्रमण हटाया है और अब निर्माण कर रहा है। यह निर्णय करने का अधिकार टीएंडसीपी को है क्योंकि उसने रोड का सौदा किया है।

निगम कोर्ट में भी नक्शा नहीं दे रहा

2022 से आरई-2 नक्शे पर बहस चल रही है। इसको लेकर कई याचिकाएं हाई कोर्ट में लगाई गई हैं। 9 नवंबर 2022 को न्यायालय ने कहा कि टीएंडसीपी आरई-2 फ्रेश लाइन को पहले मार्क करना होगा, फिर निर्माण शुरू करना होगा। नक्शा कोर्ट में प्रस्तुत करना था, लेकिन टीएंडसीपी और नगर निगम ने आज तक इसे नहीं भेजा।

मोहलत नहीं दी और कोर्ट का स्टे नहीं देखा

यहां रहने वाले बहुत से लोगों को भी कोर्ट का स्टे था। निगम दल ने न तो लोगों को मोहलत दी न ही कोर्ट का स्टे देखा। रविवार को गाड़ी से सूचना दी गई कि बस्ती के सभी परिवार यहां से चले जाएंगे और आपके घरों को तोड़ दिया जाएगा. सोमवार सुबह निगम की टीम ने सभी घरों को तोड़ डाला।

Indore: सैकड़ों परिवार, गरीबों के घरों को तोड़कर अमीरों को फायदा पहुंचाया, बारिश में सड़कों पर सो रहे है 

PM Modi EXCLUSIVE LIVE: पीएम नरेंद्र मोदी का सबसे धमाकेदार इंटरव्यू | Lok Sabha Elections 2024 | BJP