MP News:

MP News: मध्य प्रदेश की गेहूं खरीद में पिछड़ा, 15 दिन में 7 प्रतिशत तक बढ़े रेट, जीतू पटवारी ने सरकार को घेरा

Madhya Pradesh

MP News: पीसीसी प्रमुख जीतू पटवारी ने मध्य प्रदेश सरकार से मध्य प्रदेश में गेहूं खरीदी में कमी का मुद्दा उठाया है। पिछले 15 दिन में गेहूं की कीमत 7% बढ़ गई है, उन्होंने कहा।

मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष जीतू पटवारी ने गेहूं खरीद पर प्रश्न उठाया है। उन्हें बताया कि खरीद सत्र शुरू होने से पहले मध्य प्रदेश के पास सिर्फ 75 लाख टन गेहूं था, जबकि गेहूं के सरकारी भंडारों में हर वक्त तीन महीने का स्टॉक होना चाहिए था। पटवारी ने कहा कि अभी तक अपने यहां पिछली बार से लगभग 22.67 लाख टन कम खरीद हुई है, और हर कोई इसकी वजह जानना चाहता है।

MP News: गेहूं की कीमतें वर्ष में 8 और 15 दिन में 7 प्रतिशत बढ़ीं

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पटवारी ने कहा कि गेहूं का मूल्य एक वर्ष में आठ प्रतिशत बढ़ा है। कीमतें पिछले पंद्रह दिनों में सात प्रतिशत बढ़ी हैं, और अगले पंद्रह दिनों में सात प्रतिशत और बढ़ सकती हैं। दरअसल, सरकारी गेहूं भंडारों में तीन महीने का स्टॉक (138 लाख टन) होना चाहिए। खरीद सत्र शुरू होने से पहले, हालांकि, यह सिर्फ 75 लाख टन था। 2023 में स्टॉक 84 लाख टन था, 2022 में 180 लाख टन था और 2021 में 280 लाख टन था। यानी यह अभी 16 साल का सबसे कम स्तर है।

MP News: ५ क्विंटल प्रति एकड़ गेहूं उत्पादकता घटी

पटवारी ने कहा कि सीएम मोहन यादव जी के कृषि विशेषज्ञों का मानना है कि हवा के कारण गेहूं की प्रति एकड़ उत्पादकता 5 क्विंटल तक कम हो गई है जब गेहूं की फसल चक्र चल रहा है। मध्यप्रदेश का दूसरा सबसे बड़ा दोष है। अपनी पिछली खरीद से लगभग 22.67 लाख टन कम खरीदा है। देश भी इस बात का पता लगाना चाहता है कि ऐसा क्यों हुआ? नियमित रूप से कृषि कर्मण पुरस्कार विजेता प्रदेश गेहूं की खरीद में क्यों पिछड़ गया? क्या किसानों का विश्वास भाजपा की खरीद प्रणाली पर गिर गया है? मैं जानता हूँ कि आप इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देंगे।

पटवारी ने कहा कि प्रदेश के लोगों और मेहनतकश किसानों को सच्चाई पता है? इसकी सबसे बड़ी वजह है घोषित समर्थन मूल्य। मोदी ने पिछले विधानसभा चुनाव में 2700 रुपये प्रति क्विंटल का वादा करने के बावजूद किसानों को धोखा दिया। इसलिए सरकार की घोषणा से अधिक किसान बाजार पर भरोसा करते थे। अब मुनाफे की नीति पर चलने वाला बाजार गेहूं और आटे की कीमत निर्धारित करेगा, और देश की गरीब जनता इसका सबसे बड़ा खामियाजा भुगतेगी। आपकी सरकार और उसके वादाखिलाफी इस नए महंगाई संकट के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार हैं। अभी भी पर्याप्त समय है। किसानों से माफी मांगें और बकाया दें भुगतान कर दें।

MP News: मध्य प्रदेश की गेहूं खरीद में पिछड़ा, 15 दिन में 7 प्रतिशत तक बढ़े रेट, जीतू पटवारी ने सरकार को घेरा

समर्थन मूल्य खरीद को लेकर Jitu Patwari ने CM Mohan Yadav को लिखा पत्र | MP Politics