Udaipur:

Udaipur: मौत के तीन दिन बाद अंतिम संस्कार, आाखिर मौताणा लेकर माने समुदाय

Rajasthan

Udaipur: जब किसी आदिवासी समुदाय के किसी व्यक्ति की किसी अन्य व्यक्ति के यहां मौत हो जाती है, तो मृतक के परिजनों और अन्य रिश्तेदारों को मौताणे के रूप में बहुत कुछ देना पड़ता है। हाल ही में, जिले की कोटड़ा तहसील के एक गांव में ऐसा ही कुछ हुआ।


Udaipur: आदिवासी लोगों में मौताणा वसूली की एक परंपरा है। जब किसी आदिवासी की किसी अन्य व्यक्ति के यहां संदिग्ध मौत हो जाती है, मरने वाले के परिजन और रिश्तेदार दोषी व्यक्ति के परिवार से मौताणा के रूप में बड़ी राशि की मांग करते हैं और मांग पूरी होने तक दोषी व्यक्ति के परिवार पर दबाव बनाए रखने के लिए मृतक के शव का पोस्टमार्टम और अंतिम संस्कार नहीं होने देते।

अगर व्यक्ति मौताणा नहीं दे पाता, तो वह हमला करता है, जिसे आदिवासी चढ़ोतरा कहते हैं। यानी मौताणा वसूली करने वाले अपराधी परिवार और रिश्तेदारों पर चढ़ोतरा करते हैं, जिससे उनके घर, खेत और अन्य संपत्ति क्षतिग्रस्त हो जाती है। पुलिस, प्रशासन या जनप्रतिनिधि भी आदिवासी संस्कृति को नहीं मानते।

Udaipur: लाश को अंतिम संस्कार नहीं करने दिया

पूर्व में कई मौताणा नहीं मिलने पर मृतक के रिश्तेदारों ने लाश को अंतिम संस्कार नहीं करने दिया था। कुछ मामलों में, कंकाल को सड़ने के बाद अंतिम उपचार भी दिया गया था।

कोटड़ा तहसील के सावन क्यारा गांव में 28 मई को एक ऐसे ही मामले में वर पक्ष के तीन लोगों और लड़की पक्ष की एक महिला ने मांसाहारी भोजन और महुआ पीकर मर गए।

Udaipur: राजस्थान सरकार के जनजाति विकास मंत्री बाबूलाल खराड़ी, जो इसी क्षेत्र के निवासी हैं, ने मृतकों के परिजनों को लाशों का अंतिम संस्कार कराने की बहुत कोशिश की, लेकिन वे सफल नहीं हुए। बाद में 28 मई को प्रत्येक मरने वाले को डेढ़ लाख रुपये की सरकारी सहायता की घोषणा की गई, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मंत्री खराड़ी की पहल पर शुक्रवार को एक-एक लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी गई, फिर शवों का अंतिम संस्कार हुआ।

Udaipur: मौत के तीन दिन बाद अंतिम संस्कार, आाखिर मौताणा लेकर माने समुदाय

rajasthanकोटडा में तीसरे दिन हुए मृतकों के अंतिम संस्कार