Vegetables:

Vegetables: बारिश में सब्जियों (टमाटर, प्याज, आलू) की कीमतें दोगुनी हो गईं।

Uttar Pradesh

Vegetables: हरी सब्जियां आम आदमी की थाली से गायब होने लगी हैं। लोगों के रसोई के बजट में गिरावट आने लगी है। टमाटर फुटकर बाजार में 40 रुपये प्रति किलो से 100 रुपये तक पहुंच गया है। यही नहीं, 30 रुपये प्रति किलो बिकने वाले प्याज की कीमत 50 रुपये से भी अधिक हो गई है।

बारिश का मौसम शुरू हो चुका है और आलू, टमाटर और प्याज की कीमतें बढ़ गई हैं। कुछ सब्जियों की कीमतें पिछले 15 दिनों में थोक मंडियों से लेकर फुटकर बाजार तक दोगुने हो गई हैं। हरी सब्जियां आम आदमी की थाली से गायब होने लगी हैं।

लोगों के रसोई के बजट में गिरावट आने लगी है। टमाटर फुटकर बाजार में 40 रुपये प्रति किलो से 100 रुपये तक पहुंच गया है। यही नहीं, 30 रुपये प्रति किलो बिकने वाले प्याज की कीमत 50 रुपये से भी अधिक हो गई है। दुबग्गा, जानकीपुरम और राजाजीपुरम सब्जी मंडी में सब्जियों की कीमतों की जांच से पता चला कि मौसम की मार और कम आवक के कारण कुछ सब्जियों के दाम बढ़े हैं। थोक मंडी में काफी कम होने के बावजूद फुटकर बाजारों में आलू-प्याज की कीमतें काफी अधिक हैं। थोक मंडियों में हरी सब्जियों की कीमतें पचास प्रतिशत तक बढ़ी हैं।

Vegetables: आपूर्ति और मांग में व्यापक अंतर

मंडी के आढ़तियों और बाजार के जानकारों का कहना है कि जून में भारी लू और अब बारिश ने हरी सब्जियों की आवक को कम कर दिया है। सप्लाई और डिमांड में अंतर से कीमतों में बढ़ोतरी हुई है। शहनाज हुसैन, दुबग्गा सब्जी व्यापारी समिति के महामंत्री, कहते हैं कि इस बार आलू की फसल कम हुई है और आवक भी कम है। इससे इसका मूल्य बढ़ा है।

Vegetables: हल्दी की कीमत भी बढ़ी

किराना बाजार में हल्दी की कीमतें दोगुनी हो गई हैं। किराना दुकानदार अखिलेश वर्मा और ग्राहक नीलेश शुक्ला ने बताया कि पंद्रह दिन पहले 100 रुपये प्रतिकिलो बिकने वाली हल्दी आज 200 रुपये प्रतिकिलो तक पहुंच गई है। लेकिन अरहर और चने की कीमतों में मामूली गिरावट से कुछ राहत मिली है।

Vegetables: बारिश में सब्जियों (टमाटर, प्याज, आलू) की कीमतें दोगुनी हो गईं।

Deshhit: फिर महंगे होने जा रहे हैं टमाटर, आलू और प्याज! | Vegetable Price Hike News | Update | Hindi