Ayodhya: 

Ayodhya: काम नहीं आया..राम मंदिर । भाजपा की पराजय और अयोध्या की हार के कारण रहे

Uttar Pradesh

Ayodhya: राम मंदिर की स्थापना के बाद भाजपा को फैजाबाद लोकसभा सीट पर जीत की उम्मीद थी, लेकिन परिणाम हैरान करने वाले थे। भाजपा ने इस सीट पर कई कारणों को अनदेखा किया।


रामनगरी में भाजपा की एकतरफा जीत का अनुमान था, लेकिन इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी और सपा नेता अवधेश प्रसाद ने कठिन मुकाबले में पचास हजार मतों से जीत हासिल की। भाजपा प्रत्याशी लल्लू सिंह ने मतगणना के हर चरण में पिछड़ने के बावजूद किसी को उनकी हार का एहसास नहीं हुआ। पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों में दिन की रोशनी के साथ ही निराशा दिखने लगी। हर कोई सवाल करता रहा कि आखिर कारण क्या था? अब कई दिनों तक उत्तर मिलेगा।

भाजपा के नीति निर्माताओं को भी चिंता होती है कि अयोध्या में राममंदिर बनाने का वादा करने के पांच सौ वर्षों के बाद भी, क्या कोई चूक हुई? सौगात के चार महीने बाद भी टूट गया? राजनीतिक विश्लेषकों ने भाजपा की हार के गहरे कारणों को बताया है, जो राममंदिर आंदोलन, रामनगरी को अपने एजेंडे में सर्वोच्च स्थान पर रखने, अयोध्या आंदोलन, जिससे पार्टी ने उत्तर प्रदेश और दो बार केंद्र की सत्ता हासिल की, और राममंदिर आंदोलन से पार्टी ने पूरे देश में जड़ें जमाईं।

जनता की प्रतिक्रिया भी महत्वपूर्ण है। भाजपा न सिर्फ अयोध्या में हार गई, बल्कि मंडल की सभी सीटों पर भी हार गई। भविष्य में राज्य की राजनीति पर इन नतीजों का प्रभाव स्पष्ट होगा। भाजपा की अयोध्या की हार को बिंदुवार रूप से देखें।

Ayodhya: ये मुद्दे स्थानीय हैं

Ayodhya: हम पहले अयोध्या विधानसभा क्षेत्र की चर्चा करेंगे, जो राममंदिर आंदोलन का केंद्र था..। यहां राममंदिर की वजह से इस बार भारी वोटिंग की उम्मीद थी, लेकिन पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में अबकी नौ फीसदी मतदान कम हुआ। भाजपा से जुड़े स्थानीय मतदाताओं ने इसकी वजह बताई। इसका कारण शासन-सत्ता से असंतोष था। यहां पिछले दो वर्षों से सड़कों की चौड़ीकरण और अन्य विकास परियोजनाओं की वजह से आम लोगों को नुकसान हुआ है। तोड़फोड़ में एक व्यक्ति की दुकान चली गई, तो दूसरे व्यक्ति का घर चला गया।

दस्तावेजों की कमी के कारण बहुत से लोगों को पर्याप्त मुआवजा भी नहीं मिला। बताते हैं कि वे भी नहीं सुने गए। कम मतदान प्रतिशत ने भाजपा को नुकसान पहुँचाया। इसके विपरीत, इस विधानसभा क्षेत्र में भारत गठबंधन के प्रत्याशी को सपा और कांग्रेस के कैडर वोटों के अलावा दलितों और मुस्लिमों ने एकतरफा रूप से सपा प्रत्याशी को वोट दिया। यही जीत का मूल था।

स्थानीय लोगों का कहना है कि भाजपा भी यहां प्रत्याशी चुनने में असफल रही है। लल्लू सिंह पिछले दस वर्षों से मोदी के नाम पर जीतते आ रहे हैं। वह इतने लंबे समय तक सांसद रहने के बावजूद आम लोगों में अपनी निजी प्रतिष्ठा नहीं बना पाया। यहां की जनता इस बार एक महान नेता को अपने प्रत्याशी के रूप में देखना चाहती थी।

Ayodhya: लल्लू का नाम घोषित होने पर लोगों को चुनाव में कोई उत्साह नहीं दिखाई दिया और प्रधानमंत्री मोदी को लगातार तीन बार जीतने से बचाया। इंडिया गठबंधन ने इसके विपरीत कद्दावर सपा नेता और नौ बार के विधायक अवधेश प्रसाद को प्रयोग के तौर पर चुना। माना जाता है कि अवधेश ने अपने कैडर वोटरों और आम जनता में अच्छी पैठ पाई है। चुनाव लड़ने की उनकी प्रणाली इतनी गोपनीय होती है कि विपक्षी दल तक नहीं जानते कि कब उनके वोटों को चोट लगी। भाजपा के अनुभवी रणनीतिकारों को अवधेश ने इसी रणनीति से हराया।

Ayodhya: यह भी चर्चा है कि इंडिया शाइनिंग वाले दौर की तरह हवाई अड्डे जैसी सुविधाएं शहर को राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध करने के लिए अच्छी हैं, लेकिन स्थानीय लोगों को इसका बहुत लाभ नहीं हुआ। इस सुविधा का लाभ विदेशी पर्यटकों और धनवान लोगों को मिलेगा। अयोध्यावासी अभी भी बेहतर शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं के लिए संघर्ष कर रहे हैं। यहां मेडिकल कॉलेज है, लेकिन संसाधनों और डॉक्टरों की कमी है। इलाज के लिए भटकने वाले आम मतदाता ने बड़े-बड़े मुद्दों से दूरी बनाई।

अयोध्या में पिछले तीन वर्षों से विकास कार्यों की गति बहुत सुस्त रही है। छोटे व्यापारियों और दुकानदारों का काम खुदी सड़कों, धूल के गुबारों और स्थानीय जलभराव से प्रभावित हुआ। विशेष रूप से, अयोध्या का मामला बहुत महत्वपूर्ण था, इसलिए अधिकारियों को कोई नियंत्रण नहीं था। जनता को नहीं सुना गया। इससे शासन से असंतोष बढ़ा।

Ayodhya: काम नहीं आया..राम मंदिर । भाजपा की पराजय और अयोध्या की हार के कारण रहे

Amethi-Ayodhya Election Result 2024 LIVE : अमेठी-अयोध्या में भी हार मोदी को झटका, योगी ‘बोल्ड’!