Elections:

Elections: अगड़ों और अंग्रेजी से परहेज नहीं लोकसभा चुनावों के बाद आने वाले बुलेटिन में युवा सांसदों पर भी जोर दिया गया

Uttar Pradesh

Elections: सपा ने लोकसभा चुनावों के बाद समाजवादी बुलेटिन जारी करके बताया है कि अंग्रेजी और अगड़ों से परहेज नहीं है। बुलेटिन भी युवा सांसदों पर केंद्रित है।
लोकसभा चुनावों के परिणामों से उत्साहित सपा ने अपने समाजवादी बुलेटिन में लेख को पहली बार अंग्रेजी में प्रकाशित किया है। साथ ही, सपा ने पीडीए के साथ-साथ अगड़ों को भी प्रतिनिधित्व देने का पूरा ध्यान रखा है।

अंग्रेजी में युवा सांसदों इकरा हसन, प्रिया सरोज और पुष्पेंद्र सरोज पर जोर दिया गया है, यानी उभरते युवा सितारों। संसद के अंदर और बाहर कांग्रेस ने अंग्रेजी के प्रभुत्व का विरोध किया है। भारतीय समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने संसद में भी अंग्रेजी का विरोध किया था।

Elections: इस आधार पर, हिंदी बोलने वाले सांसदों ने अंग्रेजी बोलने वालों से अपनी नाइत्तफाकी भी व्यक्त की। लेकिन इस बार सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का भाषण अंग्रेजी में प्रकाशित हुआ है। यह भी बताता है कि युवा सांसदों इकरा हसन, प्रिया सरोज और पुष्पेंद्र सरोज के चयन की वजह क्या थी।

सपा के एक नेता ने नाम न छापने का आग्रह करते हुए कहा कि यह निर्णय अखिलेश के नेतृत्व में आने वाले नए जमाने के अनुरूप हैं। विस्तार की रणनीति के साथ, सपा गैर हिंदी भाषी दक्षिण के क्षेत्रों में भी आगे बढ़ना चाहती है, और हिंदी के मुकाबले अंग्रेजी इसके लिए बेहतर होगा।

Elections: 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान

इसी बात का संकेत बुलेटिन के अंग्रेजी लेख हैं। साथ ही, जो लोग अंग्रेजी में आसानी से बोलते हैं, उनके बीच बुलेटिन आसानी से लोकप्रिय होगा। 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान, समाजवादी घोषणापत्र ने कहा कि आंकड़े बताते हैं कि भारत शायद दुनिया में सबसे बड़ी गैरबराबरी वाला देश है।

अमीर लोग और भी अमीर हो रहे हैं। देश के सामान्य वर्ग के 10 प्रतिशत समृद्ध लोग 60 प्रतिशत राष्ट्रीय संपत्ति पर काबिज हैं। Jun 2024 के समाजवादी बुलेटिन में बलिया से सनातन पांडेय, धौरहरा से आनंद भदौरिया, घोसी से राजीव राय और मुजफ्फरनगर से हरेंद्र मलिक का नाम भी बताता है कि अखिलेश यादव ने पिछड़ों को अधिक महत्व देते हुए भी अगड़ों का साथ नहीं छोड़ा है।

इन सभी ने चुनाव जीता। इंडिया गठबंधन की जीत का श्रेय देते हुए अखिलेश ने कहा कि उन्होंने सहयोगी कांग्रेस के 17 सीटों पर पूरा ध्यान दिया था।

Elections: अगड़ों और अंग्रेजी से परहेज नहीं लोकसभा चुनावों के बाद आने वाले बुलेटिन में युवा सांसदों पर भी जोर दिया गया

Nitish Kumar Demand LIVE: नीतीश की मांग पर फंस गए Modi ! Lok Sabha Election | NDA